• Subscribe to Jewelove
  • Subscribe via email
  • Jewelove on Facebook
  • Jewelove on Twitter
  • RSS

जन्मदिन की शुभकामनाएं मुंशी प्रेमचंद

श्रद्धास्पद मुंशी प्रेमचंद - प्रख्यात लेखक, नाटककार एवं उपन्यास सम्राट|
Avid readers, Munshi Premchand was a legendary Indian writer whose literary works are reputed as a critique of the Indian Society at his time. He brings out the plight of the poor, India's freedom struggle & important social aspects. I first came across an excerpt from his novel, Godaan, at school. Have respected him ever since. This post is being written in Hindi as a tribute to him. - Sambhav Karnawat
विश्वास प्यार का पहला कदम है| - मुंशी प्रेमचंद 
धनपत राय, मुंशी प्रेमचंद  का असली नाम था| उनकी माँ और बाद में दादी की मृत्यु ने उन्हें अलगाव में छोड़ दिया| मुंशी प्रेमचंद ने कथा में मन दिया| मुंशी प्रेमचंद ने गोरखपुर में अपनी पहली साहित्यिक कार्य की रचना की, जो कभी प्रकाशित नहीं हुई, और अब खो चुकी है| यह एक स्नातक है, जो एक निम्न जाति की महिला के साथ प्यार में गिर जाता है पर एक तमाशा था. चरित्र प्रेमचंद के चाचा, जो कथा पढ़ने के लिए उन्हें डाँटते थे

प्रेमचंद ने सेंट्रल हिंदू कॉलेज में प्रवेश की मांग की, लेकिन उनके खराब गणित की वजह से असफल रहा था. उन्होंने अपनी पढ़ाई छोड़ दी| इसके बाद प्रेमचंद ने बनारस में एक वकील के बेटे के अनुशिक्षक के रूप में पांच रुपये के मासिक वेतन पर काम किया. वह वकील के अस्तबल पर एक मिट्टी सेल में रहते रहते थे एवं 60% वेतन घर वापस भेजे थे|

मुंशी प्रेमचंद ने पहले छद्म नाम "नवाब राय" के तहत लिखा| नवाब राय के रूप में उन्होंने सोज - ए - वतन लिखा था, जो अंग्रेजों द्वारा प्रतिबंधित किया गया था| इसके बाद नवाब राय ने छद्म नाम प्रेमचंद रखा| इस समय तक, वे उर्दू में एक कथा लेखक के रूप में प्रतिष्ठित थे|

1919 तक, प्रेमचंद ने चार उपन्यास प्रकाशित की| 1919 में, प्रेमचंद ने पहले प्रमुख उपन्यास सेवा सदन हिंदी में प्रकाशित किया. उपन्यास मूल शीर्षक बाज़ार - ए - हुस्न के तहत उर्दू में लिखा गया था लेकिन एक कलकत्ता आधारित प्रकाशक ने Rs. 450 में हिन्दी में पहली बार प्रकाशित किय| यह अच्छी तरह से आलोचकों के द्वारा प्राप्त किया गया था, और प्रेमचंद को व्यापक मान्यता हासिल करने में मदद की|


1921 तकउन्हों स्कूल की उप निरीक्षक के रूप में पदोन्नत किया गया| 8 फ़रवरी 1921 को गोरखपुर में एक बैठक में महात्मा गांधी ने लोगों से कहा कि असहयोग आंदोलन के भाग के रूप में सरकारी नौकरी से इस्तीफा दे| हालांकि शारीरिक रूप से अस्वस्थ और दो ​​बच्चों और गर्भवती पत्नी के लिए समर्थन के साथ, 5 दिनों तक उन्होंने स बारे में सोचा और अपनी पत्नी की सहमति से सरकारी नौकरी से इस्तीफा दिया| 1936 में अपनी मृत्यु तक, उन्हों गंभीर वित्तीय कठिनाइयों और पुरानी बीमार स्वास्थ्य का सामना करना पड़ा.

1923 में, उन्होंने बनारस में एक प्रिंटिंग प्रेस और प्रकाशन घर, 'सरस्वती प्रेस' नाम की स्थापना की| वर्ष 1924 में प्रेमचंद का उपन्यास रंगभूमि प्रकाशित किया गया था, जिसमें अपने त्रासद नायक के रूप में एक नेत्रहीन भिखारी सूरदास था|

मुंशी प्रेमचंद  लखनऊ में प्रोग्रेसिव राइटर्स एसोसिएशन के प्रथम राष्ट्रपति के रूप में निर्वाचित हुए| 8 अक्टूबर १९३६ को 8 अक्टूबर बीमारी के कई दिनों के बाद धनपत राय की मृत्यु हो गई, किन्तु मुंशी प्रेमचंद  अपने साहित्यिक काम और हमारे सम्मान में जीवित हैं|

मुंशी प्रेमचंद  के उपन्यास गोदान को हिन्दी साहित्य में सर्वश्रेष्ठ लेखन माना जाता है

Photo Courtesy : WikiMedia Commons
Article Information Source : Wikipedia
Translator : Google Hindi Translate




By
Sambhav Karnawat
Suranas JeweloveTM
A Legacy of Over 250 Years!

Suranas Jewelove on facebook | Platinum Love Bands | Shop Online with Suranas Jewelove



0 comments:

Post a Comment

We value your feedback

 

Followers

There was an error in this gadget

Jewelove on facebook

Blog Archive

Translate

Contact Us

Contact us at WeCare@Jewelove.in
Copyright 2011 Suranas Jewelove - All Rights Reserved.
All data, information, images & any other & all content is subject to copyright. Do not copy, modify, reuse or change & use the content in any way. Share & Enjoy!
All content on the blog is the author's personal opinion. Pt is a registered trademark of Platinum Guild India & Platinum Guild International & has been used with their permission. Jewelove is a Platinum retailer authorized by the Platinum Guild International.
Designed by Web2feel.com | Bloggerized by Lasantha - Premiumbloggertemplates.com | Affordable HTML Templates from Herotemplates.com.